Posts

शर्त

Image
महान लेखक टालस्टाय की एक कहानी है *- "शर्त "*

इस कहानी में दो मित्रो में आपस मे शर्त लगती है कि, यदि उसने 1 माह एकांत में
बिना किसी से मिले,बातचीत किये एक कमरे में बिता देता है, तो उसे 10 लाख नकद वो देगा । इस बीच, यदि वो शर्त पूरी नहीं करता, तो वो हार जाएगा ।
पहला मित्र ये शर्त स्वीकार कर लेता है । उसे दूर एक खाली मकान में बंद करके रख दिया जाता है । बस दो जून का भोजन और कुछ किताबें उसे दी गई ।

उसने जब वहां अकेले रहना  शुरू किया तो 1 दिन 2 दिन किताबो से मन बहल गया फिर वो खीझने लगा । उसे बताया गया था कि थोड़ा भी बर्दाश्त से बाहर हो तो वो घण्टी बजा के संकेत दे सकता है और उसे वहां से निकाल लिया जाएगा ।
जैसे जैसे दिन बीतने लगे उसे एक एक घण्टे युगों से लगने लगे । वो चीखता, चिल्लाता लेकिन शर्त का खयाल कर बाहर किसी को नही बुलाता । वोअपने बाल नोचता, रोता, गालियां देता तड़फ जाता,मतलब अकेलेपन की पीड़ा उसे भयानक लगने लगी पर वो शर्त की याद कर अपने को रोक लेता ।

कुछ दिन और बीते तो धीरे धीरे उसके भीतर एक अजीब शांति घटित होने लगी।अब उसे किसी की आवश्यकता का अनुभव नही होने लगा। वो बस मौन बैठा र…

कोरोनावायरस

एक बार मुगल बादशाह अकबर और उनका अति प्रिय मंत्री बीरबल दोनों शतरंज खेलने बैठे। दोनों के बीच यह शर्त लगी कि उन में से जो भी व्यक्ति शतरंज की यह बाजी हारेगा, उसे जीतने वाले की इच्छा के अनुसार जुर्माना चुकाना होगा। इसी क्रम में पहले बीरबल बोला जहांपनाह यदि आप जीत गए और मैं हार गया तो हुकुम फरमाएं कि मैं आपको क्या जुर्माना चुकाऊंगा ? बादशाह ने जवाब दिया बीरबल यदि यह बाजी मैं जीता और तुम हारे तो तुम्हें, जुर्माना स्वरूप मुझे सौ स्वर्ण मुद्राएं सौंपनी होगी। इस पर बीरबल ने हां में गर्दन हिलाई ‌। अब बारी बीरबल की थी, वह बोला जहांपनाह यदि इस बाजी में आप हारे और मैं जीता तो आप मुझे जुर्माने के रूप में शतरंज के 64 खानों में गेहूं के दाने रखकर चुकाएंगे‌ लेकिन इसमें मेरी एक छोटी सी शर्त यह रहेगी कि आपको शतरंज के पहले खाने में गेहूं का एक दाना रखना होगा, दूसरे खाने में पहले के दुगने दो दाने, तीसरे खाने में दो के दुगने चार दाने, चौथे खाने में चार के दुगने आठ दाने, पांचवें खाने में आठ के दुगने सोलह दाने। ऐसे करते हुए शतरंज के सभी चौसठ खानों में गेहूं के दाने रख कर वे सारे गेहूं के दाने जुर्माना स्वर…

नेवेले की कहानी

Image
एक गांव में एक परिवार रहता था जिसमें पति पत्नि और उनका एक
छोटा सा बच्चा लगभग २-३ महिने का था उस परिवार में एक पालतू नेवला भी था, जिससे उस बच्चे की मां बहुत डरती थी और उसे लगता था कि कहीं नेवला उसके बच्चे को ही ना खा ले।
वो कभी भी अपने बच्चे को अकेला नहीं छोड़ती थी, एक दिन उसको पीने का पानी कुएं से लेने जाना पड़ा तो उसने अपने बच्चे को कमरे में बिस्तर के पास लगे झूले में एक सुला दिया और कमरे को बाहर से ताला लगा कर पानी लेने कुएं के पास चली गई, कुएं के पास पहले से ही कुछ और लोग भी खड़े थे, जिससे उसको थोडा़ ज्यादा वक्त लगा पानी लेके वापस आने में।
जैसे ही वह घर पहुंची और कमरे का दरवाजा खोने जा ही रही थी कि अचानक उसकी नज़र उस बन नेवले पर पड़ी, उसने देखा की नेवले के मुख़ में बहुत सारा ख़ून लगा था, जिसको देख कर वह जोर से चिल्लाई, है भगवान् इसने मेरे बच्चे को मार डाला, और जिस बर्तन में पानी लाई थी उसी को नेवले के ऊपर फेक दिया, और नेवला उसके नीचे दब कर मर गया। और ओह महिला रोते हुए दरवाज़ा खोल कर अंदर गई, और जैसे ही अंदर आई उसकी आंखों के सामने जो था उसको देख कर वह स्तब्ध रह गई और उसने देखा कि एक स…

हमरी जिन्दगी का एक ही मक़सद है कि हमार बिटवा पेड़ पर चढ़ेगा।

Image
पिता बेटे को डॉक्टर बनाना चाहता था।

बेटा इतना मेधावी नहीं था कि NEET क्लियर कर लेता।

इसलिए  दलालों से MBBS की सीट खरीदने का जुगाड़ किया ।

ज़मीन, जायदाद, ज़ेवर सब गिरवी रख के 35 लाख रूपये दलालों को दिए, लेकिन अफसोस वहाँ धोखा हो गया।

अब क्या करें...?

लड़के को तो डॉक्टर बनाना है कैसे भी...!!

फिर किसी तरह विदेश में लड़के का एडमीशन कराया गया, वहाँ लड़का चल नहीं पाया।

फेल होने लगा..
डिप्रेशन में रहने लगा।

रक्षाबंधन पर घर आया और घर में ही फांसी लगा ली।
सारे अरमान धराशायी.... रेत के महल की तरह ढह गए....

20 दिन बाद माँ-बाप और बहन ने भी कीटनाशक खा कर आत्म-हत्या कर ली।

अपने बेटे को डॉक्टर बनाने की झूठी महत्वाकांक्षा ने पूरा परिवार लील लिया।
माँ बाप अपने सपने, अपनी महत्वाकांक्षा अपने बच्चों से पूरी करना चाहते हैं ...

मैंने देखा कि कुछ माँ बाप अपने बच्चों को Topper बनाने के लिए इतना ज़्यादा अनर्गल दबाव डालते हैं
कि बच्चे का स्वाभाविक विकास ही रुक जाता है। 

आधुनिक स्कूली शिक्षा बच्चे की Evaluation और Gradening ऐसे करती है, जैसे सेब के बाग़ में सेब की खेती की जाती है।
पूरे देश के करोड़ों बच्चों को एक ही Syllabus पढ़ा…

धन-दौलत की तीन गतियां

Image
एक गांव में धर्मदास नामक एक व्यक्ति रहता था। 


बातें तो बड़ी ही अच्छी- अच्छी करता था पर था एकदम कंजूस। 
.
कंजूस भी ऐसा वैसा नहीं बिल्कुल मक्खीचूस। 
.
चाय की बात तो छोड़ों वह किसी को पानी तक के लिए नहीं पूछता था। 
.
साधु-संतों और भिखारियों को देखकर तो उसके प्राण ही सूख जाते थे कि कहीं कोई कुछ मांग न बैठे। 
.
एक दिन उसके दरवाजे पर एक महात्मा आये और धर्मदास से सिर्फ एक रोटी मांगी। 
.
पहले तो धर्मदास ने महात्मा को कुछ भी देने से मना कर दिया,
.
लेकिन तब वह वहीं खड़ा रहा तो उसे आधी रोटी देने लगा। आधी रोटी देखकर महात्मा ने कहा कि अब तो मैं आधी रोटी नहीं पेट भरकर खाना खाऊंगा। 
.
इस पर धर्मदास ने कहा कि अब वह कुछ नहीं देगा।
.
महात्मा रातभर चुपचाप भूखा-प्यासा धर्मदास के दरवाजे पर खड़ा रहा।
.
सुबह जब धर्मदास ने महात्मा को अपने दरवाजे पर खड़ा देखा तो सोचा कि अगर मैंने इसे भरपेट खाना नहीं खिलाया और यह भूख-प्यास से यहीं पर मर गया तो मेरी बदनामी होगी।
.
बिना कारण साधु की हत्या का दोष लगेगा।
.
धर्मदास ने महात्मा से कहा कि बाबा तुम भी क्या याद करोगे, आओ पेट भरकर खाना खा लो। 
.
महात्मा भी कोई ऐसा वैसा नहीं था। 
.
धर्मदास की बात सुनकर …

एक हाइली इफेक्टिव आदमी

एक हाइली इफेक्टिव आदमी कौन होता है? एक हाइली इफेक्टिव इंसान वो होता है जिसका केरेक्टर अच्छा हो. जिसके पास स्ट्रोंग वेल्यूज़ हो. क्या आपकी कभी अपने किसी रिश्तेदार या कलीग से खटपट हुई है? किसी से ये उम्मीद रखना कि वे बदले, उससे पहले आपको खुद को बदलना होगा. क्या आपको लगता है कि आपमें खुद को इम्प्रूव करने की क्वालिटी है? एक हाइली इफेक्टिव इंसान के दुसरे लोगो के साथ भी अच्छे रिलेशन होते है. वो अपने परिवार, रिश्तेदारों, दोस्तों, पड़ोसियों और कलीग्स के साथ मिलजुल कर रहता है. और एक अच्छा रिलेशन सालो साल तक चलता है. एक हाइली इफेक्टिव इंसान कैसे बना जाए, ये आप इस किताब को पढ़कर सीख सकते है. जो भी आपकी जॉब हो, आप इस किताब से ये बात जान सकते है. जैसे कि अगर आप एक पेरेंट है तो अपने बच्चे के साथ अपना रिलेशनशिप और भी बेहतर बना सकते है. अगर आप एक बॉस है जो इस किताब में आपको ऐसे टिप्स मिलेंगे जिनसे आप और भी अच्छे लीडर बन पायेंगे. जब आपका केरेक्टर अच्छा हो तो लोग भी आपसे नज़दीकी बढ़ाना चाहते है. इसीलिए तो “द सेवेन हेबिट्स ऑफ़ हाइली इफेक्टिव पीपल” एक इंटरनेशनल बेस्ट सेलर है. ये किताब केरेक्टर इम्प्रूव करने में फ…

चिंता छोड़ें सुख से जियें- डेल

परिचय
ऐसी क्या चीज़ है जो अभी आपको तंग कर रही है ? वो चाहे जो भी चीज़ हो मगर आपकी ये टेंशन आपको जीने नहीं दे रही, आपके अपनों से दूर कर रही है, आपकी सक्सेस और खुशियाँ आपसे छीन रही है. तो क्या आप जिंदगी भर टेंशन में रहना चाहते है ? या फिर खुलकर अपनी ज़िन्दगी जीना चाहते है? इस किताब में आपको ऐसे इफेक्टिव तरीके मिलेंगे जो आपको हर प्रॉब्लम से छुटकारा दिला देंगे. क्या आपकी आदत है कि आप हमेशा पुरानी बातो का पछतावा करते रहते है या फिर हमेशा फ्यूचर की चिंता में डूबे रहते है ? कभी-कभी लोग इतनी टेंशन लेते है कि वे अपने प्रेजेंट को ही भूल जाते है. क्या आपको लगता है कि आप एक भरपूर जिंदगी जी रहे है ? हर दिन को भरपूर जिए स्प्रिंग के सुहाने दिन में एक जवान मेडिकल स्टूडेंट अपने फ्यूचर के बारे में सोच रहा था. क्या वो फाइनल एक्जाम्स पास कर पायेगा? स्कूल खत्म होने के बाद उसे कहाँ जाना चाहिए? कैसे वो अपने करियर शुरू करेगा ? वो लड़का यही सब सोच रहा था. उसके हाथ में एक किताब थी जिसे वो उस टाइम पढ़ रहा था कि तभी उसे उसमें लिखे ऐसे 21 वर्ड्स मिले जिन्हें पढ़कर वो इंस्पायर हो गया. आने वाले टाइम में वो मेडिकल स्टूडेंट अपन…